PCV Vaccine Full Form In Hindi

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम यह जानेंगे कि पीसीवी (PCV) क्या होता है तथा PCV Vaccine Full Form In Hindi क्या होती है | हम यह भी जानेंगे की पीसीवी (PCV) टेस्ट क्या होता है तथा पीसीवी (PCV) टेस्ट की नार्मल रेंज क्या होनी चाहिए |

इस आर्टिकल को पढ़कर आप यह भी जान पाएंगे कि पीसीवी (PCV) के कम होने या बढ़ने से क्या होता है | PCV Vaccine Full Form In Hindi को अच्छे से समझने के लिए इस आर्टिकल को आप अंत तक पढ़िएगा |

PCV Vaccine Full Form In Hindi

पीसीवी (PCV) की फुल फॉर्म पैक्ड सेल वॉल्यूम (Packed Cell Volume) होती है | पीसीवी (PCV) को Hematocrit भी कहते हैं | पीसीवी (PCV) एक प्रकार का ब्लड टेस्ट होता है जो सीबीसी प्रोफाइल टेस्ट के साथ होता है | पीसीवी (PCV) टेस्ट के द्वारा शरीर में मौजूद लाल रक्त कोशिकाओं को मापा जा सकता है | ब्लड मैं कितनी लाल रक्त कोशिकाएं उपस्थित है यह पता लगाने में पीसीवी (PCV) टेस्ट काफी मददगार साबित होता है |

महिलाओं तथा पुरुषों के लिए पीसीवी (PCV) की रेंज अलग-अलग होती है महिलाओं में पीसीवी (PCV) की नार्मल रेंज 33.4 से 44.4 % होती है। वही पुरुषो मैं इसके नार्मल रेंज 38.0 से 48.4 तक होती है।

पीसीवी (PCV) टेस्ट क्यों करवाया जाता है ?

पीसीवी (PCV) टेस्ट के जरिए हम एनीमिया और पॉलीसिथीमिया जैसे बीमारियों का पता लगा सकते हैं। जब हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होने लगती है तो उसे एनीमिया कहते हैं | जब लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या बहुत ज्यादा अधिक हो जाती है तो उसे पॉलीसिथीमिया कहते हैं।

पीसीवी (PCV) टेस्ट कब करवा सकते हैं ?

डॉक्टर पीसीवी (PCV) टेस्ट करवाने को तब कहता है जब मरीज के शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के कम हो जाने के लक्षण देखता है | शरीर में निम्नलिखित लक्षण दिखाई देने पर पीसीवी (PCV) टेस्ट करवाया जाता है :

  • शरीर में कमजोरी का महसूस होना |
  • बार बार चक्कर आना |
  • हमेशा थका हुआ महसूस करना |
  • शरीर की त्वचा का पीला हो जाना |
  • काम करते वक़्त सांस का फूल जाना |
  • सर में दर्द होना |
  • चीजों का धुंधला दिखाई देना |
  • काफी ज्यादा पसीना आना |
  • त्वचा में खुजली होना तथा उसका लाल हो जाना |

पीसीवी (PCV) टेस्ट के लिए नर्स आपके शरीर से ब्लड लेती है जिसकी वजह से व्यक्ति कमजोरियां व थका हुआ महसूस कर सकता है |

पीसीवी (PCV) टेस्ट कैसे होता है ?

पीसीवी (PCV) टेस्ट को दो तरीके से कर सकते हैं :

  • पहला मैनुअल मेथड के जरिए |
  • दूसरा ऑटोमेटेड एनालाइजर के द्वारा |

ऑटोमेटेड एनालाइजर के द्वारा पीसीवी (PCV) टेस्ट करना काफी आसान होता है | कई लैब्स में ऑटोमेटेड एनालाइजर नहीं होता है जिसके कारण ज्यादातर जगह में मैनुअल मेथड के जरिए पीसीवी (PCV) टेस्ट होता है |

पीसीवी (PCV) टेस्ट मैनुअल मेथड के जरिए |

मैनुअल मेथड दो तरीके से होता है पहला विंट्रोबेस ट्यूब्स मेथड दूसरा केपिलरी मेथड |

Wintrobes Tubes Method

Wintrobes Tubes Method मैं Wintrobes Tubes का इस्तेमाल किया जाता है | जिसमे ट्यूब 10 cm लम्बी तथा 0.5 mm चौड़ी होती है | यह एक तरफ से खुली तथा दूसरी तरफ से बंद होती है |

Wintrobes Tube को परफॉर्म करने के लिए आवश्यक सामान

  • Wintrobes Tubes
  • EDTA Blood
  • Centrifuge

पीसीवी (PCV) टेस्ट के लिए प्रोसीजर :

pcv test
  • पीसीवी टेस्ट करने के लिए सबसे पहले आपको एक साफ़ विंट्रोब ट्यूब लेनी होती है |
  • उसके बाद इस ट्यूब में 10 मार्च तक का EDTA ब्लड लेते हैं |
  • उसके बाद इस ट्यूब को CENTRIFUGE में अच्छे से बैलेंस करके रखते हैं और 20,30 मिनट तक उसी में रखे रखते हैं |
  • ट्यूब को CENTRIFUGE से निकालकर यह देखते हैं कि कितने रेड ब्लड सेल्स नीचे बैठ गए हैं |
  • फिर इन सब चीजों को रिपोर्ट में दर्ज कर देते हैं |

PCV Report

जब सारी पीसीवी (PCV) प्रोसेस पूरी हो जाती है तो उसके बाद हम ट्यूब में देखते हैं कितना आरबीसी नीचे बैठ गया है तथा उसे 100 में से घटा देते हैं | हम टेस्ट ट्यूब में देखते हैं कितने मार्क्स का रेड ब्लड सेल जमा हुआ है | वहां तक गिन करके उसे 10 से गुणा कर देते हैं |

पीसीवी (PCV) के कम होने पर किस बीमारी का खतरा रहता है

अगर आपके पीसीवी (PCV) के रिपोर्ट में पीसीवी लेवल कम आता है तो इसका अर्थ यह होता है कि आपके शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या काफी ज्यादा कम हो गई है और आप एनीमिया का शिकार हो सकते हैं | जिन व्यक्तियों में पीसीवी (PCV) लेवल कम हो जाता है उनमें एनीमिया के लक्षण, बोन मैरो डिजीज के लक्षण तथा किडनी संबंधित बीमारियां होने का खतरा रहता है |

एनीमिया होने पर निम्नलिखित लक्षण दिखाई पड़ते हैं

  • शरीर में कमजोरी का महसूस करना |
  • चक्कर आना |
  • शरीर में अत्यधिक थकान महसूस करना |
  • शरीर की त्वचा का पीला हो जाना |
  • सिर में बार-बार दर्द महसूस करना |

पीसीवी (PCV) के बढ़ जाने से क्या होता है

ज्यादा पीसीवी (PCV) बढ़ जाने से पॉलीसिथीमिया होने का खतरा रहता है | पीसीवी टेस्ट का नार्मल रेंज से अधिक होने पर हार डिजीज पॉलीसिथीमिया और फेफड़ों के रोग होने का खतरा रहता है |

पॉलीसिथीमिया से ग्रसित होने पर निम्नलिखित ही पड़ते हैं

  • सांस का फूलना |
  • थका हुआ महसूस करना |
  • सही से दिखाई ना देना |
  • काफी ज्यादा पसीना आना |
  • शरीर की त्वचा का लाल हो जाना तो था खुजली होना |

पीसीवी (PCV) टेस्ट की कीमत

अलग-अलग लेंबो में पीसीवी टेस्ट के लिए अलग-अलग रुपए चार्ज किए जाते हैं पीसीवी टेस्ट की एक औसत कीमत 200 से 250 होती है |

मुझे उम्मीद है इस आर्टिकल ने आपको PCV Vaccine Full Form In Hindi को समझने में मदद की होगी अगर आपका PCV Vaccine Full Form In Hindi से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं अगर आपको हार्दिक अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर्स के साथ जरूर शेयर कीजिएगा |

Other Related Articles:

ESR Full Form In Hindi
CRPC Full Form In Hindi
SGPT Full Form In Hindi
ICDS Full Form In Hindi
MCH Full Form In Hindi
MFG Full Form In Hindi
PPO Full Form In Hindi
MSW Full Form In Hindi
IOT Full Form In Hindi
ISBN Full Form In Hindi
PCOD Full Form In Hindi
HCF Full Form In Hindi
APMC Full Form In Hindi
RT-PCR Full Form In Hindi
GDS Ka Full Form In Hindi
GMP Full Form In Hindi
OT Full Form In Hindi
DMLT Full Form In Hindi
CBT Full Form In Hindi
DRA Full Form In Hindi
BDC Full Form In Panchayat In Hindi
BTS Army Full Form In Hindi
CGA Full Form In Hindi
CWSN Full Form In Hindi
E KYC Full Form In Hindi
ADP Full Form In Biology In Hindi
ACCA Full Form In Hindi
JRF Full Form In Hindi
SFS Full Form In Instagram In Hindi
BEMS Full Form In Hindi

Leave a Comment