MCH Full Form In Hindi

आज के इस आर्टिकल में हम MCH Full Form In Hindi के बारे में जानेंगे | हमें जानेंगे कि एमसीएच क्या होता है | हम यहां भी जानेंगे कि m.c.h. की शुरुआत कैसे हुई तथा यह क्या होता है | एमसीएच के फुल फॉर्म वह एमसीएच (MCH) के बारे में जानने के लिए आप इस पोस्ट को आखिर तक पढ़े |

MCH Full Form In Hindi

मीन कॉरपस्कुलर हीमोग्लोबिन (Mean corpuscular hemoglobin) एमसीएच (MCH) की फुल फॉर्म होती है | डॉक्टर अपने रोगियों की स्वास्थ्य समस्याओं का अंदाजा लगाने के लिए एमसीएच रक्त परीक्षण करते हैं | एमसीएच परीक्षण से डॉक्टर यह पता करते हैं की कॉरपस्कुलर हीमोग्लोबिन का स्तर कितना है | आइए एमसीएच की फुल फॉर्म को और अच्छे से समझते हैं |

MCH Full Form In Hindi

एमसीएच (MCH) का उपयोग आपके पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने का होता है | एक एमसीएच का अर्थ यह होता है कि एक लाल रक्त कोशिका में कितनी औसत मात्रा में हीमोग्लोबिन उपलब्ध है |

हिमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में उपस्थित होता है | हिमोग्लोबिन मानव शरीर के ऊतकों में ऑक्सीजन पहुंचाने का कार्य करता है | एमसीएच के साथ दो अन्य मूल भी संबंधित होते हैं पहला है मध्य कणिका आयतन और दूसरा होता है माध्य कणिका हीमोग्लोबिन सांद्रता जिसे हम एमसीएचसी भी कहते हैं | इन मूल्यों को लाल रक्त कोशिका के सूचकांक के रूप में भी माना जाता है |

MCV(माध्य कड़ीका आयतन) किसी एक व्यक्ति के RBC का औसत आकार बताने के काम आता है| छोटी लाल रक्त कोशिकाओं में कम हीमोग्लोबिन होता है जबकि बड़ी लाल रक्त कोशिकाओं में ज्यादा हीमोग्लोबिन होता है |

हिमोग्लोबिन एक प्रोटीन होता है जो लाल रक्त कोशिकाओं को शरीर के विभिन्न अंगों तक ऑक्सीजन पहुंचाने का कार्य करता है | एक व्यक्ति में एमसीएच का स्तर 27 से 33 किलोग्राम प्रति सेल होता है | एक व्यक्ति के लाल कोशिकाओं में उपलब्ध हीमोग्लोबिन की औसत मात्रा एमसीएच कहलाती है | 26 से 33 इकोग्राम एमसीएच का सामान्य स्तर माना जाता है |

एमसीएच और एमसीएचसी में अंतर

लाल रक्त कोशिका के अंदर हिमोग्लोबिन की औसत मात्रा की गणना को हम एमसीएच(MCH) कहते हैं जबकि एमसीएचसी(MCHC) लाल रक्त कोशिका मैं हिमोग्लोबिन की औसत एकाग्रता की गणना होती है | एमसीएचसी की मात्रा अधिक हो जाने पर आपके लाल रक्त कोशिकाओं में हीमोग्लोबिन की मात्रा अधिक हो जाती है |

एमसीएचसी कम होने के लक्षण

  • एमसीएचसी कम होने पर आपके शरीर में कमजोरी आ जाती है |
  • आपकी त्वचा पीली पड़ने लग जाती है |
  • आपको चक्कर आने लग जाते हैं |
  • आप बहुत थके महसूस करते हैं |
  • आपको काम करने पर चक्कर आने लगते हैं |

एमसीएचसी के ज्यादा होने के लक्षण

  • बेहोशी आना |
  • बुखार आना तथा थके हुए रहना |
  • सीने में दर्द होना और त्वचा का पीला पड़ जाना |
  • शरीर में कमजोरी महसूस करना |

एमसीएच स्तर को संतुलित करने के उपाय

एमसीएच (MCH) स्तर को संतुलित करने के लिए आपको आयरन से भरपूर हरी सब्जियां खानी चाहिए | हरी सब्जियां आपके एमसीएच के स्तर को संतुलित करने में काफी मददगार साबित हो सकती है | आप अपने आहार में विटामिन B12 तथा फोलिक एसिड को जोड़ सकते हैं | कम एमसीएच (MCH) का स्तर लोहे की कमी के कारण हो सकता है | कम एमसीएच (MCH) के कारण आपको एनीमिया भी हो सकता है |

जिन व्यक्तियों का एमसीएच (MCH) कम होता है डॉक्टर उन्हें आहार में अधिक आयरन और विटामिन बी लेने की सलाह देता है | आयरन के अलावा आप विटामिन सी तथा फाइबर भी ले सकते हैं | हिंदी या फोलिक एसिड की दवाइयां आपको अपने नजदीकी मेडिकल स्टोर या फिर ऑनलाइन आसानी से मिल सकते हैं | डॉक्टर अक्सर एमसीएच की गणना करने के लिए सीबीसी का उपयोग करता है |

उच्च एमसीएच क्या होता है |

अगर आपका एमसीएच 34 pg से ज्यादा है तो उसे एक असामान्य और उच्च एमसीएच माना जाता है | Macrocytic एनीमिया उच्च एमसीएच का एक सामान्य कारण हो सकता है | यह एक सामान्य विकार है जिसमें आपका शरीर लाल रक्त कोशिकाओं को उत्पादित करने में असफल रहता है | जिन लोगों को Macrocytic एनीमिया की प्रॉब्लम होती है उनमें लाल रक्त कोशिकाओं का साइज सामान्य से काफी बड़ा होता है | पत्तेदार सब्जियां, मछली, पोषक तत्व इस समस्या से निकलने के लिए आपकी मदद कर सकते हैं | अगर आपने यह निम्नलिखित लक्षण है तो आपको Macrocytic एनीमिया हो सकता है |

  • हमेशा थका हुआ महसूस करना
  • घबराहट महसूस करना
  • शरीर का पीला हो जाना

Macrocytic एनीमिया हृदय की समस्याओं को बढ़ावा दे सकता है इसके लिए इसका प्रारंभिक निदान करना बहुत जरूरी हो जाता है |

एमसीएच स्तर की गणना कैसे होती है |

(MCH) पता करने के लिए सीबीसी परीक्षण होता है यह एक सामान्य रक्त परीक्षण की तरह ही होता है जिसमें नर्स आपके हाथ में सुई से रक्त लेती है | इस परीक्षण से आप किसी व्यक्ति में लाल रक्त कोशिकाओं, सफेदरक्त कोशिकाओं तथा प्लेटलेट्स को माप सकते हैं | इसमें रक्त में उपलब्ध हीमोग्लोबिन की मात्रा को लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या से विभाजित किया जाता है | आमतौर पर एमसीएच की सामान्य सीमा 27 से 33 पिक्टोग्राम होती है |

कम एमसीएच (MCH) शरीर में आयरन की कमी को दर्शाता है | थैलेसीमिया जैसी अनुवांशिक बीमारियां भी एमसीएच के निम्न स्तर की वजह से होती है | यदि आपके शरीर में एमसीएच की मात्रा 27 पिक्टोग्राम से कम है तो इसका मतलब यह है कि आप में एमसीएच कम है | आयरन की कमी के कारण से भी एमसीएच कम हो जाता है |

अगर आपके शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी है तो आप निम्नलिखित लक्षण महसूस कर सकते हैं |

  • लगातार थके हुए रहना
  • हमेशा कमजोरी महसूस करना
  • सिर दर्द और चक्कर आना
  • शरीर की त्वचा का पीला हो जाना

दोस्तों मैं उम्मीद करता हूं कि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा और इससे आपको एमसीएच के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां मिली होंगी | अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों और अपनी मेंबर के साथ शेयर जरूर कीजिएगा जिससे उन्हें भी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां मिल सके |

Other Related Articles:

ESR Full Form In Hindi
CRPC Full Form In Hindi
SGPT Full Form In Hindi
ICDS Full Form In Hindi

4 thoughts on “MCH Full Form In Hindi”

  1. whoah this blog is wonderful i really like reading your articles. Keep up the great paintings! You realize, a lot of people are hunting round for this info, you could help them greatly.

    Reply

Leave a Comment