Now In Hindi

Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain

Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain

दोस्तों आज के इस आर्टिकल मैं हम यह जानेंगे की बैंक मैं खाता कैसे खोलते है। अगर आपका बैंक मैं खाता नहीं है और आप अपना खाता खोलना चाहते है तोह इस लेख को पूरा पढ़िएगा। दोस्तों अगर आपका बैंक मैं खाता नहीं है तो आपको बैंक मैं खाता जरूर खोलना चाहिए। बैंक मैं खाता खोलने से आपको बैंक से मिलने वाली सुविधाएं व योजनाओ का लाभ मिल सकता है। जरुरत पड़ने पर आप एटीएम के जरिये आसानी से पैसे निकाल सकते है।

Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain

दोस्तों किसी भी बैंक मैं खाता खोलना व एटीएम बनवाना काफी आसान होता है। किसी भी बैंक मैं अकाउंट खोलने से पहले आपको यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए की आप कौन सा अकाउंट खुलवाना चाहते है। क्यूंकि बैंक मैं आप विभिन्न प्रकार के अकाउंट खुलवा सकते है।

बैंक मैं आप 3 प्रकार के अकाउंट खुलवा सकते है पहला होता है सेविंग अकाउंट, दूसरा करंट अकाउंट तथा तीसरा क्रेडिट अकाउंट। सेविंग अकाउंट को बचत खाता भी कहते है। करंट अकाउंट को चालू खाता कहते है। क्रेडिट अकाउंट को ऋण अकाउंट कहते है। अगर आप अपने रोजमर्रा के कामो के लिए खाता खुलवाना चाहते है तोह बचत खाता सबसे बढ़िया रहता है।

बैंक मैं इन तीनो अकाउंट को खोलने की प्रक्रिया सामान ही रहती है। इन एकाउंट्स को खुलवाने के लिए आपको कुछ डाक्यूमेंट्स की जरुरत भी पड़ती है। आप चाहे तो ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों तरीको से बैंक मैं अकाउंट खुलवा सकते है। बैंक मैं खाता खुलवाने के लिए इस लेख को आप अंत तक पढ़िएगा। Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain यह आप इस आर्टिकल मैं अच्छे से जान लेंगे।

बैंक मैं अकाउंट खुलवाने की प्रक्रिया

अगर आप ऑफलाइन तरीके से खाता खुलवाना चाहते है तो उसके लिए आपको बैंक जाना पड़ेगा। आपको बैंक कर्मियों से एक फॉर्म लेना पड़ेगा तथा उस फॉर्म को भर कर के वापिस देना होता है जिसे व आपका खाता खोल सके। बैंक मैं खाता खोलने के लिए आपको कुछ डाक्यूमेंट्स भी देने होते है। जब आप बैंक प्रक्रिया की सारी जरूरतों को पूरा कर लेते है तभी आपका अकाउंट बैंक मैं खुलता है। आइये बैंक मैं अकाउंट खोलने की प्रक्रिया को अच्छे से समझते है :

उम्मीद करता हु अब आपको समझ मैं आ गया होगा की Bank Mein Khata Kaise Kholte Hain |

बैंक मैं खातों के प्रकार

  1. current account ( चालू खाता )
  2. saving account ( बचत खाता )
  3. fixed deposit account ( सावधि जमा खाता )
  4. recurring deposit account (आवर्ती जमा खाता )
  5. no frill account ( बुनियादी बचत खाता )

चालू खाता (Current Account)

व्यापारिक लेन देन मैं उपयोग होने वाले खाते को हम चालू खाता कहते है। अगर आप कोई बिज़नेस मैन है तथा आपका रोज लाखो का कारोबार होता है तो आपको करंट अकाउंट खुलवाना चाहिए। इस अकाउंट मैं आप कई बार लेन देन कर सकते है इस अकाउंट मैं कोई लिमिट नहीं होती है जबकि सेविंग अकाउंट मैं लिमिट होती है।

करंट अकाउंट मैं आपको जमा राशि पर कोई ब्याज नहीं मिलता है इसमें आपको ओवरड्राफ्ट की सुविधा मिलती है। व्यापारिक लेन देन के लिए यह खाता सबसे बढ़िया रहता है।

बचत खाता (Saving Account)

saving account मैं राशि जमा करने पर बैंक द्वारा जमा राशि पर ब्याज मिलता है तथा आपका पैसा बैंक मैं सुरक्षित भी रहता है। आप इसमें कभी भी पैसा जमा करा सकते है व जरूरत पड़ने पर कभी भी निकाल सकते है। आप आसानी से बैंक मैं सेविंग अकाउंट खुलवा सकते है व पैसो की बचत कर सकते है।

इसमें आप सयुंक्त व व्यक्तिगत दोनों खाते खुलवा सकते है व्यक्तिगत खाता सिर्फ एक व्यक्ति के लिए होता है वही संयुक्त खाता दो या दो से अधिक व्यक्तियों के लिए होता है। संयुक्त खाता खुलवाने पर आपको उसमे सभी खाता धारक के डॉक्यूमेंट व फोटोज जमा करवानी पड़ती है।

सावधि जमा खाता (Fixed Deposit Account)

निवेश करने के लिए सावधि जमा खाता एक बहुत अच्छा ऑप्शन होता है। इसमें आप एक निश्चित समय अवधि के लिए अपने पैसे निवेश करते हो। तथा बैंक उस पर आपको एक निश्चित ब्याज राशि आपको देती है। 7 से 10 दिन की निवेश सुविधा fd मैं उपलब्ध होती है। कई बैंको मैं ब्याज दर 4% से 11% तक होता है।

आवर्ती जमा खाता (Recurring Deposit Account )

निवेश करने के लिए आवर्ती जमा खाता बेहतरीन विकल्पों मैं से एक है। इसमें एक निश्चित समय अवधि के बाद आपको अपनी किस्ते जमा करवानी होती है। rd की सीमा पूरी हो जाने पर आपको ब्याज के साथ पैसे वापिस मिल जाते है। RD मैं निवेश की समय सीमा 6 महीने से 10 साल तक की होती है।

बुनियादी बचत खाता (No Frill Account)

बुनियादी बचत खाता बेसिक सेविंग अकाउंट व जीरो बैलेंस अकाउंट के नाम से भी जाना जाता है। इस अकाउंट को आप जीरो बैलेंस के साथ भी खोल सकते है। और बिना कोई राशि जमा कराये ऐसे ही रख सकते है इस खाते मैं न्यूनतम बैलेंस की अनिवार्यता नहीं होती है। प्रतिदिन की जमा व निकासी राशि की सीमा 5000 होती है।

इन सब के अलावा आप बैंक मैं अन्य अकाउंट भी खोल सकते है जैसे- सैलरी अकाउंट, स्मार्ट डिपाजिट अकाउंट, टर्म डिपाजिट अकाउंट और पावर सेविंग बैंक अकाउंट आदि। बैंक मैं खाता खोलने से पहले आपको यह पता होने चाहिए की हर बैंक की अपनी पालिसी व फैसिलिटीज होती है। बैंक मैं खाता खोलने के लिए आपको कुछ इम्पोर्टेन्ट डाक्यूमेंट्स भी देने होते है। यह डाक्यूमेंट्स आपको फॉर्म जमा करते वक़्त ही देने होते है।

बैंक में खाता खोलने के लिए कौन कौन से डॉक्यूमेंट जरुरी होते है

ज्यादातर लोगो को यह पता होता है की बैंक मैं खाता कैसे खोलते है व बैंक का फॉर्म कैसे भरते है पर व इस बात पे कंफ्यूज रहते है की बैंक मैं कौन कौन से डाक्यूमेंट्स देने होते है। बैंक मैं खाता खोलने के लिए आपको निम्नलिखित डाक्यूमेंट्स की जरुरत होती है :

मोबाइल से बैंक अकाउंट कैसे खोले

बहुत सारे बैंको ने ऑनलाइन बैंक अकाउंट खोलने की सुविधा भी दी है। अगर आपके पास बैंक जाकर अकाउंट खोलने का टाइम नहीं है तो आप घर बैठे भी अकाउंट खोल सकते है। आजकल ऑनलाइन बैंक अकाउंट खोलना काफी आसान हो गया है। ऑनलाइन बैंक अकाउंट कैसे खोलते है यह आपको निचे दिए गए स्टेप्स मैं पता चल जायेगा।

माइनर अकाउंट कैसे खुलता है ?

18 साल से काम उम्र के बच्चो के लिए जो अकाउंट खुलता है उसे माइनर अकाउंट कहते है। अगर 10 साल से कम उम्र के बच्चो का अकाउंट खुलता है तो उसका संचालन माता पिता को ही करना होता है। वही अगर आपकी उम्र 10 साल से ऊपर है तो आप अपने अकाउंट का संचालन खुद कर सकते है।

अगर आप अपने बच्चे का माइनर अकाउंट खुलवाना चाहते है तो इसकी पूरी जानकारी स्टेप बी स्टेप निचे दी गई है। माइनर अकाउंट खोलने के लिए पूरी प्रोसेस निचे बताई गई है :

निष्कर्ष

मुझे उम्मीद है इस आर्टिकल को पढ़कर आप यह समझ गए होंगे की बैंक मैं खाता किस प्रकार खुलता है। इस आर्टिकल मैं हमे बैंक मैं किस प्रकार ऑनलाइन व ऑफलाइन खाता खोल सकते है यह बताया है। इस आर्टिकल को पूरा पड़ने के बाद आपको बैंक अकाउंट खोलने मैं कोई दिक्कत नहीं आएगी। बैंक अकाउंट खोलने के लिए कौन कौन से डाक्यूमेंट्स लगते है हमने यह भी बताया है।

दोस्तों आपको अगर इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई प्रश्न या सुझाव है तो आप हमे कमेंट करके बता सकते है। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों व फॅमिली मेंबर्स के साथ जरूर शेयर कीजिएगा।

Other Related Articles:

Poornima Puttaswamayya
ESR Full Form In Hindi
SDPO Full Form In Hindi
CRPC Full Form In Hindi
SGPT Full Form In Hindi
ICDS Full Form In Hindi
MCH Full Form In Hindi
MFG Full Form In Hindi
PPO Full Form In Hindi
MSW Full Form In Hindi
IOT Full Form In Hindi
ISBN Full Form In Hindi
PCOD Full Form In Hindi
HCF Full Form In Hindi
APMC Full Form In Hindi
RT-PCR Full Form In Hindi
GDS Ka Full Form In Hindi
GMP Full Form In Hindi
OT Full Form In Hindi
DMLT Full Form In Hindi
CBT Full Form In Hindi
DRA Full Form In Hindi
BDC Full Form In Panchayat In Hindi
BTS Army Full Form In Hindi
CGA Full Form In Hindi
CWSN Full Form In Hindi
E KYC Full Form In Hindi
ADP Full Form In Biology In Hindi
ACCA Full Form In Hindi
JRF Full Form In Hindi
SFS Full Form In Instagram In Hindi
BEMS Full Form In Hindi
PCV Vaccine Full Form In Hindi
HIV Ka Full Form In Hindi
RC Full Form In Hindi
NABH Full Form In Hindi
EDD Full Form In Hindi
RD Full Form In Hindi

Exit mobile version